दिल्ली

क्राइम ब्रांच ने दबोचा 08 ड्रग तस्कर

इंटरस्टेट ड्रग सिंडिकेड का पर्दाफाश 5 राज्य, 250 किलोमीटर तक पीछा

 

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने अलग अलग मामलों में 08 ड्रग तस्करों को गिरफ्तार करके इंटरस्टे ड्रग सिंडिकेट का पर्दाफाश किया है। साथ ही 01 करोड़ से ज्यादा की हेरोइन, कैश आदि बरामद किया गया है। यह कारवाई दिल्ली पुलिस की नशा मुक्त भारत अभियान के तहत की गई है। जिसमें प्लानिंग के तहत कारवाई करते हुए दिल्ली, एनसीआर में ड्रग्स की सप्लाई में लगे 08 तस्करों को गिरफ्तार किया गया।

स्पेशल पुलिस कमिश्नर रविंद्र सिंह यादव ने बताया की इनके कब्जे से 833 ग्राम हेरोइन, 2.5 लाख कैश, 1 कार, 1 मोटरसाइकिल, पैकेजिंग सामग्री आदि बरामद किया गया। जब्त किए गए ड्रग्स की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक करोड़ से अधिक बताई जा रही है। डीसीपी अमित गोयल की देखरेख में एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के एसीपी प्रभात सिन्हा और एसीपी अरविंद कुमार की देखरेख में, इंस्पेक्टर राकेश दूहन, सब इंस्पेक्टर विकासदीप, विशन कुमार, एएसआई संजय, नरेंद्र, राजेंद्र सिंह, सुनील कुमार, विजय भारद्वाज, अमित, सनी, सोहन, गुलशन, संजीव, राजबीर तोमर, कपिल कुमार, वरुण, विक्रांत, उमा चौधरी, मीनू, रवि और दिनेश की टीम ने इन ड्रग तस्करों को दबोचने में कामयाब हुई है।

पुलिस के अनुसार ऑपरेशन-1 की कारवाई में हेडकांस्टेबल अमित को सूचना मिली थी, गुलाब राय उर्फ चेतन, दिल्ली में हेरोइन की तस्करी में लिप्त है। वह बवाना रोड, सेक्टर 29, रोहिणी के पास किसी अज्ञात व्यक्ति को भारी मात्रा में हेरोइन की आपूर्ति करने के लिए आएगा। उस सूचना पर टीम ने रोहिणी में ट्रैप लगाया और गुलाब राय उर्फ चेतन को पकड़ लिया। उसके कब्जे से 100 ग्राम हेरोइन बरामद की गई।

ऑपरेशन-II में हुई कारवाई में हेडकांसटेबल सन्नी को सूचना मिली कि आकाश और इसका साथी नीरज ड्रग तस्करी में लिप्त हैं। वे किसी अज्ञात व्यक्ति को हेरोइन की बड़ी खेप देने के लिए आईएसबीटी, आनंद विहार आयेगें। टीम द्वारा ट्रेप लगाकर नीरज और प्रशांत उर्फ आकाश को दबोच लिया। उनके कब्जे से 200 ग्राम हेरोइन बरामद की गई है।

पूछताछ के दौरान खुलासा किया कि उन्होंने बरेली के ओमेंद्र से ड्रग्स खरीदे थे। इसके बाद टीम ने बरेली में छापा मारा और ड्रग्स की डिलिवरी देने वाले ओमेंद्र को उत्तर प्रदेश से गिरफ्तार किया। आरोपी ओमेंद्र ने बताया की उसने रज्जा हुसैन से ड्रग्स खरीदा था। जो अभी भी फरार है।

ऑपरेशन-III की कारवाई में हेडकांसटेबल अमित को सूचना मिली कि मादक पदार्थ तस्कर परमिंदर उर्फ बब्बल हेरोइन तस्करी में लिप्त है। वह राकेश उर राजू नाम के सहयोगी को ड्रग्स की एक बड़ी खेप पहुंचाता है। टीम द्वारा अमन विहार में छापा मारकर राकेश उर्फ राजू को पकड़ लिया गया। उसके घर की तलाशी में 150 ग्राम हेरोइन बरामद की गई।

पूछताछ में राकेश ने खुलासा किया की हेरोइन परमिंदर उर्फ बब्बल द्वारा उसे सप्लाई की गई थी। उसको बड़ी खेप के साथ दीप विहार, रोहिणी में पकड़ा जा सकता है। टीम द्वारा परमिंदर उर्फ बब्बल को उसके घर पर छापा मारकर पकड़ा गया। उसके घर की तलाशी के दौरान 131 ग्राम और 168 ग्राम हेरोइन, पैकिंग सामग्री और 2.5 लाख कैश ( हेरोइन बेचने से कमाई गई थी) बरामद की गई। जांच में यह पता चला कि दया शंकर उर्फ राजू उर्फ कैंपस और सूरज उर्फ बिहारी बरामद ड्रग्स की सप्लाई करते थे, जो अपने घरों से भाग गए थे। टेक्निकल सर्विलांस की मदद से दोनों को पांच राज्यों दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और पंजाब में पीछा करने के बाद अमृतसर से गिरफ्तार किया गया। उनकी गाड़ियों की पहचान के लिए 100 से अधिक सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई। आरोपियों को पकड़ने के लिए लगभग 250 गाड़ियों की जांच की गई। वे गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार ठिकाने बदल रहे थे। उनके कब्जे से वेन्यू कार बरामद की गई, जिसका इस्तेमाल ड्रग्स तस्करी को अंजाम देने के लिए करते थे। तलाशी के दौरान, सूरज उर्फ बिहारी के घर से 22 ग्राम हेरोइन, दया शंकर उर्फ राजू उर्फ कैंपस के घर से 62 ग्राम हेरोइन बरामद की गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button