उत्तरी दिल्लीजुर्मदिल्लीबिज़नेस

चांदनी चौक के “ड्राई फ्रूट व्यापारी” को “गोली मारकर लूट” की थी

क्राइम ब्रांच ने "शूटर को दबोचा" 02 लाख लालच" देकर "किया था हायर"

चांदनी चौक के ड्राई फ्रूट व्यापारी पर फायरिंग करके रात में सनसनीखेज लूट के मामले को अंजाम देने वाले शूटर को क्राइम ब्रांच की टीम ने आखिरकार धर दबोचा है। उस शूटर की पहचान ऋतिक के रूप में हुई है। जो मूलतः हरियाणा का रहने वाला है, लेकिन आजकल दिल्ली के नरेला में किराए के कमरे पर रहता था। इसके पास से पुलिस टीम ने दो पिस्टल और पांच जिंदा कारतूस भी बरामद किया है। मात्र दसवीं तक की पढ़ाई कर चुका यह शूटर पहले मजदूरी करता था। बाद में आर्थिक तंगी के कारण यह क्रिमिनल एक्टिविटी में शामिल होकर एक गैंग के संपर्क में आकर शूटर बन गया।

स्पेशल पुलिस कमिश्नर रविंद्र सिंह यादव ने बताया कि 30 नवंबर की रात जब ड्राई फ्रूट व्यापारी शॉप बंद करके घर जा रहा था। इस दौरान जब वह पार्क की हुई कार से अपना बैग निकालने लगा, तभी हथियार बंद बदमाश वहां पहुंचे पहले उसपर चाकू से हमला किया और उसका बैग लूटने की कोशिश करने लगे। इसी दौरान दूसरे हमलावर ने उसपर गोली चला दी और दुकानदार का बैग लूटकर मौके से फरार हो गए।

उसे मामले में रूपनगर थाना में एफआईआर दर्ज किया गया था, अलग-अलग धाराओं के अंतर्गत। इस मामले की छानबीन क्राइम ब्रांच की टीम को भी दी गई थी। एडिशनल सीपी संजय भाटिया की देखरेख में एसीपी विवेक त्यागी, इंस्पेक्टर आलोक कुमार राजन की टीम ने छानबीन शुरू की। आखिरकार 37 दिनों की मेहनत के बाद इस शूटर को दबोचने में क्राइम ब्रांच की टीम सफल रही।

पुलिस को इसने पूछताछ में बताया कि अमन और मोहम्मद सफीक ने उसे लूट की वारदात को अंजाम देने के लिए 2,00000 का लालच दिया था। फिर सबने मिलकर चांदनी चौक के ड्राई फ्रूट व्यापारी को लूटने की योजना बनाई थी, जो हर रात काले रंग का बैग लेकर घर जाता था। हथियार का इंतजाम मोहम्मद शफीक ने किया था। उसी ने पूरे रूट की रैकी की था, और फिर 30 नवंबर की रात सबने मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। फायरिंग में ड्राई फ्रूट वेबसाइट घायल हो गया था और उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस मामले में शूटर एक साथी को पुलिस पहले गिरफ्तार कर चुकी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button