दिल्ली

ठगी की अंगूठी से किया मौज मस्ती

खाया कबाब, पिया शराब, पहुंचा जेल

यदि आप सीनियर सिटीजन हैं, सुबह या शाम मॉर्निंग या इवनिंग वॉक पर जाते हैं,,तो सावधान हो जाइए। यह खबर आपके लिए है। रास्ते में कोई आकर आपसे किसी जगह का पता पूछे और उसी दौरान कोई दूसरा शख्स भी आकर आपको इधर-उधर की बातों में फंसाकर लॉटरी का लालच देकर बातों की जाल में फंसाने की कोशिश करे, तो कृपया सावधान हो जाइए। क्योंकि ऐसा ना हो कि इन धोखेबाजों का अगला शिकार आप हो जाएं। द्वारका जिला के बिंदापुर थाना इलाके में इसी तरह की एक वारदात सामने आई है। जिसमें अधेड़ उम्र के शख्स से धोखेबाजों ने पता पूछने और लॉटरी का लिफाफा का बहाना बनाकर उनके हाथ से गोल्ड की अंगूठी गायब कर दी। और उसे अंगूठी को किसी और को बेचकर पैसे को आपस में बताकर शराब और कबाब में उड़ा दिया।

इस मामले में बिंदापुर पुलिस ने सूझबूझ से काम लेते हुए सीसीटीवी फुटेज की मदद से तीन धोखेबाजों और उससे सोने की अंगूठी खरीदने वाले को धर दबोचा है। डीसीपी द्वारका एम हर्ष वर्धन ने बताया की पुलिस टीम ने चीटिंग के इस मामले का खुलासा करते हुए इनको गिरफ्तार किया है और इनके पास से गोल्ड रिंग, लॉटरी का लिफाफा, वारदात में इस्तेमाल स्कूटी और साइकिल भी बरामद किया है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान चंचल, गुलशन, प्रकाश और गुलशन उर्फ बॉबी के रूप में हुई है। यह सभी बलजीत नगर और रंजीत नगर इलाके के रहने वाले हैं।

पुलिस ने बताया कि 2 नवंबर को चीटिंग की एक वारदात डीडीए फ्लैट्स के बीच में बने पार्क में एक अधेड़ उम्र के सख्स के साथ हुई थी। जब साइकिल से वहां पर पहुंचे एक युवक ने पीड़ित से पूछा कि वीर बाजार कहां पर है। उसी दौरान दूसरा युवक भी स्कूटी पहुंचा और उसने लॉटरी की बात में उलझा दिया और इसी दौरान पीड़ित के हाथ से सोने की अंगूठी कब उतार लिया उन्हे पता नहीं चला। जब शख्स अपने घर पहुंचा तब उसे पता चला कि उसकी उंगली में जो अंगूठी पहनी थी वह गायब है। उसके बाद उसने बिंदापुर थाना में शिकायत करके मामला दर्ज करवाया।

एसएचओ राजेश मलिक की देखरेख में सहायक सब इंस्पेक्टर बिजेंदर, हेड कांस्टेबल राजू, योगराज, मोहित, धर्मेंद्र और कांस्टेबल राजेश की टीम ने छानबीन शुरू की। जिस जगह पर चीटिंग की वारदात को अंजाम दिया गया था वहां आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज से पता लगाया। आरोपी के रूट को फॉलो करती हुई पुलिस टीम जब आगे पहुंची तो एक ब्लू रंग की स्कूटी नजर आई। उसके रजिस्ट्रेशन नंबर के आधार पर पता चला कि वह चंचल नाम के शख्स पर रजिस्टर्ड है, जो बलजीत नगर का रहने वाला है। पुलिस टीम वहां पहुंची लेकिन स्लम एरिया होने के कारण लोकेशन ट्रैक नहीं हो पा रहा था। लेकिन पुलिस टीम लगातार जांच करती रही और आखिरकार स्कूटी को ट्रैक करने में कामयाब हो गई। लेकिन पुलिस को देखकर आरोपी वहां से भाग गया, पुलिस टीम बलजीत नगर से टैगोर गार्डन तक आरोपी का पीछा करती पहुंची और एक-एक करके तीन आरोपियों को घोड़ा वाला मंदिर चौक के पास पकड़ लिया।

बाद में इन तीनों की पहचान की गई। इनसे जब पूछताछ हुई तो एक बैग मिला जिसमें लॉटरी का लिफाफा मिला। जिसकी मदद से ये लोग चीटिंग की वारदात को अंजाम देते थे। इन्होंने बताया कि वह 2 नवंबर को बिंदापुर इलाके में वारदात को अंजाम देने के लिए स्कूटी और साइकिल से पहुंचे थे। तभी उनकी नजर एक शख्स पर पड़ी जिसके हाथ में अंगूठी देखा। एक एक करके सभी उनके पास पहुंचे और एड्रेस पूछने के साथ लॉटरी का का झांसा देकर सोने की अंगूठी उतार लिया। बाद में उस अंगूठी को बलजीत नगर के शख्स को 19,500 में बेच दिया और फिर उस अमाउंट को तीनों ने आपस में बांट लिया। उसे रकम को तीनों ने खाने-पीने में उड़ा दिया। पुलिस टीम ने फिर इनकी निशानदेही पर रिसीवर बॉबी उर्फ गुलशन को दबोच लिया और उसके पास से सोने की अंगूठी बरामद कर ली। वारदात में इस्तेमाल साइकिल को भी पुलिस ने बरामद कर लिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button