द्वारका

“दयावान सुपर कार चोर” गिरफ्तार

100 गाड़ी चुराकर बना चुका सेंचुरी कार से CNG, टू व्हीलर से बैट्री चुराता

 

द्वारका जिला के एंटी ऑटो थेफ्ट स्क्वाड की टीम ने “सुपर चोर बंटी” की तरह अकेले वारदात करने वाला “दयावान गाड़ी चोर” गिरफ्तार किया है। जो गाड़ी चोरी की सेंचुरी ( 100 वारदात ) लगा चुका है। खास बात यह है कि यह चोर दयावान इसलिए है, क्योंकि यह कार चुराने के बाद उसमें से सीएनजी किट निकालकर लावारिस हालत में छोड़ देता था। और टू व्हीलर चुराने के बाद बैट्री निकालकर छोड़ देता था। सीएनजी किट और बैट्री बेचकर उसकी जरूरत पूरी हो जाती थी और लावारिस गाड़ी मिल जाने पर जिसकी गाड़ी चोरी होती थी, वह खुश हो जाते थे की उनकी चोरी की गाड़ी वापस मिल गई।

डीसीपी द्वारका एम हषर्वर्धन ने बताया कि गिरफ्तार किए गए कार चोर की पहचान रवि उर्फ करण के रूप में हुई है। यह कीर्तिनगर, दिल्ली का रहने वाला है, इसके पास से 7 चुराई गई कार के अलावा 7 सीएनजी किट, आधा दर्जन से ज्यादा सीएनजी सिलेंडर, 9 मोटरसाइकिल और स्कूटी के अलावा पिस्टल और एक जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

एसीपी ऑपरेशन राम अवतार की देखरेख में इंस्पेक्टर कमलेश कुमार एसआई दिनेश, एएसआई विजय, तोपेश, हेड कांस्टेबल राजवीर, कांस्टेबल राकेश, शीशपाल और लेडी कॉन्स्टेबल पूजा की टीम ने इसकी गिरफ्तारी से बिंदापुर, डाबरी, द्वारका साउथ, राजौरी गार्डन, विकासपुरी, पश्चिम विहार ईस्ट और हरिनगर थाना के 18 मामलों का खुलासा करने का दावा किया है।

पुलिस के अनुसार जब सहायक सब इंस्पेक्टर विजय सिंह और हेड कांस्टेबल राजवीर को इस गाड़ी चोर के बारे में स्पेसिफिक इनफार्मेशन मिली थी। इस सूचना पर पुलिस टीम ने बिंदापुर जेजे कॉलोनी इलाके में ट्रैप लगाकर इसको दबोचा। पुलिस के अनुसार 24-25 जुलाई की रात द्वारका साउथ थाना इलाके में सेंट्रो कार और एक मोटरसाइकिल चोरी हो गई थी। उस मामले की एफआईआर दर्ज की गई और एटीएस की टीम को मामले को सुलझाने के लगाया गया। पुलिस टीम ने दर्जनों सीसीटीवी फुटेज चेक किए और उसके आधार पर पता लगाती रही। इसी कड़ी में जब टीम को सूचना मिल गई तो फिर पुलिस टीम ने उसी आधार पर छानबीन करती हुई इस सुपर चोर को धर दबोचा। फिर उसकी निशानदेही पर काफी जगह पुलिस ने छापा मारकर वहां से चोरी की गाड़ियां, मोटरसाइकिल, स्कूटी सीएनजी किट बरामद किया।

पूछताछ में इसने पुलिस को बताया कि वह पिछली बार जब गिरफ्तार हुआ था तो 14 गाड़ियां बरामद की गई थी। कुछ समय पहले यह जेल से छूटकर बाहर आया था। यह RTV पर हेल्पर बन गया, लेकिन उस काम में मजा नहीं आया फिर यह अपने पुराने धंधे में आ गया और ताबड़तोड़ गाड़ियां चुराने लगा। द्वारका जिला के डाबरी, द्वारका के अलावा वेस्ट दिल्ली के विकासपुरी इलाकों में यह ज्यादा सक्रिय हो गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button