दिल्ली

दिल्ली में धधकती दर्जनों आग की घटनाओं के बीच, रोजाना 20 बे-जुबानों की जान बचा रहे फायरकर्मी

बर्ड रेस्क्यू में 50 लाख से डेढ़ करोड़ की गाड़ी इस्तेमाल, हर महीने लगभग 600 बर्ड-एनिमल रेस्क्यू होते दिल्ली में

अनुभव गुप्ता, नई दिल्ली

राजधानी दिल्ली में बढ़ती गर्मी के बीच आग लगने की घटनाओं में भी काफी इजाफा हो गया है। रोजाना फायर ब्रिगेड को अब 125 के आसपास कॉल मिल रहे हैं। जिसमें 80 से लेकर 90 कॉल आग की हो रही है। लेकिन आग पर काबू पाकर लोगों की जान और माल को बचाने में लगी हुई फायर ब्रिगेड की टीम बेजुबानों की भी खूब जान बचा रही है। रोजाना लगभग 20 के आसपास जानवर और पेड़ों पर पक्षी के फंसे होने की कॉल आती है और उन जगहों पर पहुंचकर फायर की टीम इनकी जान बचा रही है।

इस गर्मी के महीने अप्रैल में अब तक 1 अप्रैल से लेकर 19 अप्रैल के बीच पक्षी और जानवर रेस्क्यू करने के 310 मामले फायर कंट्रोल रूम को मिल चुके हैं। जिसमें मौके पर पहुंची फायर की टीम ने जानवरों और पक्षियों को रेस्क्यू करके उनकी जान को बचाया। जिसमें सबसे ज्यादा 161 कॉल एनिमल रेस्क्यू के आए हैं। जबकि पक्षियों के रेस्क्यू करने के 149 कॉल आ चुके हैं।

फायर कंट्रोल रूम के ऑफिसर असिस्टेंट डिविजनल फायर ऑफीसर सोमवीर ने बताया की जान तो आखिर जान है, चाहे वह आदमी का हो, जानवर का हो या फिर पक्षियों का। हमारा कर्तव्य है कि कॉल जिस तरह की भी मिले, मौके पर पहुंचकर हमारी टीम पूरी शिद्दत के साथ उसको पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ती है। कई बार तो फायर की छोटी गाड़ियों से ही मौके पर पहुंचकर पक्षियों को रेस्क्यू कर लिया जाता है। लेकिन कई बार बड़ी गाड़ियों को मौके पर मंगाना पड़ता है। जिसमें 30 से 40 मीटर की सीढ़ी होती है। उसका इस्तेमाल करके पक्षियों को फिर पेड़ से रेस्क्यू करके निकाला जाता है।

कल गुरुवार को भी गोकुलपुरी और शाहदरा इलाके में ऐसे ही 2 बड़े मामले ऐसे सामने आए जिसमें बड़ी गाड़ियों का इस्तेमाल करना पड़ा था। आमतौर पर बर्ड रेस्क्यू करने के मामले कम से कम 6 और ज्यादा से ज्यादा एक दर्जन रोजाना कंट्रोल रूम के सामने आ रहे हैं।

गौरतलब है कि आग बुझाने वाली छोटी गाड़ी फायर टेंडर 50 लाख के आसपास की होती है और सबसे बड़ी गाड़ी टीटीएल की कीमत लगभग डेढ़ करोड़ के आसपास होती है। बर्ड रेस्क्यू में भी इन गाड़ियों का इस्तेमाल किया जाता है, और हर महीने लगभग 600 पक्षियों और जानवरों की जान फायर ब्रिगेड की टीम बचा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button