जुर्मदिल्लीद्वारका

दिल्ली में लाखों में दी मर्डर की सुपारी,, बिहार के आर्म्स डीलर से लाया हथियार खुली पोल, एक-एकगिरफ्तार, 8 करके 5 पिस्टल बरामद

अनुभव गुप्ता, नई दिल्ली

द्वारका नॉर्थ थाना इलाके में एक बिजनेसमैन की हत्या करने आये शूटर को, उसको हत्या की सुपारी देने वाले बिजनेसमैन के पार्टनर को और बिहार के सिवान में आर्म्स की फैक्ट्री चलाने वाले आर्म्स सप्लायर को गिरफ्तार करके स्पेशल स्टाफ की पुलिस टीम द्वारका नॉर्थ थाना की टीम के साथ मिलकर एक बड़े मामले का खुलासा किया है।

फैक्ट्री बिहार के सिवान में चलाया जा रहा था। वहां से हथियार लेकर दिल्ली एनसीआर, उत्तर प्रदेश में भी सप्लाई किया जा रहा था। गैंग का खुलासा करते हुए 8 पिस्टल और 11 जिंदा कारतूस बरामद किया गया है। डीसीपी द्वारका एम हर्षवर्धन ने बताया कि जो फैक्ट्री चलाया जा रहा था, उसका ऑनर बबलू शर्मा है।

यह भी पता चला की आगे हथियार की सप्लाई लोकल गैंग मेंबर को भी किया जाता है। बबलू शर्मा का यूपी के इंटरस्टेट क्रिमिनल के साथ भी संपर्क है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपियों की पहचान शिवकुमार यादव, सत्येंद्र यादव, राहुल यादव, अंकुर सिंह और बबलू शर्मा के रूप में हुई है। बबलू शर्मा सिवान में हथियार की फैक्ट्री चलाता है और अंकुर आगे सप्लाई करवाता है।

एसीपी ऑपरेशन रामअवतार की देखरेख में इंस्पेक्टर स्पेशल स्टाफ नवीन कुमार, सब इंस्पेक्टर बहादुर सिंह, विजय गौर, सहायक सब इंस्पेक्टर करतार सिंह, हेड कॉन्स्टेबल राजकुमार, देव और अजय कुमार की टीम ने सीसीटीवी फुटेज टेक्निकल सर्विलेंस और लोकल इंटेलिजेंस की मदद से इस गैंग तक पहुंची है।

जब स्पेशल स्टाफ की पुलिस टीम को सूचना मिली थी कि सनी बाजार चौक, ककरोला के पास हथियार के साथ आने वाला है। वहां पर छापा मारा गया और पुलिस ने सत्येंद्र, राहुल और अंकुर को वहां पर ट्रैक कर लिया। तलाशी में उनके पास से दो पिस्टल, 9 जिंदा कारतूस और मोटरसाइकिल बरामद किए गए। फिर इनसे पूछताछ हुई तब पुलिस ने शिव कुमार यादव को ओल्ड पालम रोड से पकड़ा। इनसे पूछताछ हुई तो पता चला की सत्येंद्र और शिवकुमार आपस में रिलेटिव हैं।

उन्होंने बताया कि सत्येंद्र, शिवकुमार के लिए काम करता है। शिवकुमार का एक बिजेंदर नाम के बिजनेसमैन के साथ पार्टनरशिप था और उसी के दौरान डिस्प्यूट होने पर शिवकुमार ने उसकी हत्या करने की प्लानिंग की थी। इसके लिए उसने सिवान से शूटर को हायर किया। मार्च में यह लोग सिवान गए, वहां पर राहुल और अंकुर से मुलाकात हुई और उन्होंने बिजेंदर की हत्या करने के लिए सुपारी दी। फिर दिल्ली में फायरिंग की थी।

शिवकुमार ने फिर सत्येंद्र के जरिए राहुल तक फंड पहुंचाने की प्लानिंग तय कर ली। उसके बाद राहुल और अंकुर सतेंद्र के साथ दिल्ली आ गए। यहां पर ककरोला के भारत विहार में उन्हें रुकने के लिए इंतजाम किया और वारदात को अंजाम देने के लिए मोटरसाइकिल भी उपलब्ध कराई।

राहुल यादव शूटर है और उसने बबलू शर्मा से हथियार खरीद कर लाया। जब पुलिस टीम बिहार पहुंची तो पता चला कि वहां पाली गन हाउस के नाम से वह फैक्ट्री चला रहा है। फिर वहां से 6 हथियार और दो जिंदा कारतूस बरामद किए गए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button