राजनीती

देश के लिए वन नेशन वन इलेक्शन जरूरी या फिर वन नेशन वन एजुकेशन वन इलाज जरूरी

केजरीवाल ने वन नेशन वन इलेक्शन पर पहली बार तोड़ी चुकी X पूर्व में ट्विटर पर साधा निशान, पूछे सवाल

केंद्र की मोदी सरकार ने ‘वन नेशन, वन इलेक्शन’ यानी एक देश-एक चुनाव की दिशा में एक और कदम आगे बढ़ा दिया है। लॉ मिनिस्ट्री ने पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में कमेटी गठित कर दी है। इसके साथ ही कमेटी के सदस्यों के नामों की घोषणा भी कर दी है। कमेटी में कुल 8 लोग शामिल होंगे. इसमें अमित शाह, अधीर रंजन चौधरी, गुलाम नबी आज़ाद, एनके सिंह, सुभाष कश्यप, हरीश साल्वे और संजय कोठारी अन्य सदस्य होंगे।

वहीं इस पुरे ममाले पर पहली बार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रतिक्रिया दी है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने X पूर्व में ट्विटर पर लिखा और सवाल पूछा है कि देश के लिए क्या ज़रूरी है ? वन नेशन वन इलेक्शन या वन नेशन वन एजुकेशन जरूरी है देश के लिए जिसमें अमीर हो या गरीब सबको एक जैसी अच्छी शिक्षा मिलेगी ? देश के लिए वन नेशन वन इलेक्शन जरूरी है या फिर वन नेशन वन इलाज जरूरी है जिसमें अमीर हो या गरीब, सबको एक जैसा अच्छा इलाज मिलेगा? आम आदमी को वन नेशन वन इलेक्शन से क्या मिलेगा? पहली बार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मुद्दे पर चुप्पी थोड़ी है और एक पूर्व में ट्विटर पर लिखते हुए सवाल पूछा है।

बता दे की वन नेशन वन इलेक्शन को लेकर गठबंधन के कई नेता आपत्ति जाता चुके हैं जिसमें सबसे पहले आपत्ति कांग्रेस की तरफ से दिखाई गई थी हालांकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पूरे मामले पर आज एक स्कूल में ट्विटर पर लिखते हुए देश के सामने अपनी बात रखते हुए कहा है कि देश के लिए क्या जरूरी है वन नेशन वन इलेक्शन या वन नेशन वन एजुकेशन या वन नेशन वन इलाज?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button