दिल्ली

नहीं पसीजा सरकार औऱ प्रशासन का दिल नहीं काम आये आंसू औऱ सरकार से विनती

कैम्प को NDRF औऱ पुलिस ने कराया खाली बुलडोजर चला, लोगों के आशियाने नेस्तनाबुद्ध

जीस प्रियंका गाँधी कैम्प को खाली करने का नोटिस NDRF द्वारा दिया गया था, उसकी खबर हमने आपको दो दिन पहले दिखाई थी. दो दिन पहले यहां के महिलाएं बच्चे औऱ लोगों ने आँखों मे आंसू लिए हाँथ जोड़कर दिल्ली सरकार औऱ केन्द्र सरकार से विनती कर रहे थे कि उन्हें यहां से ना उजाड़ा जाय या फिर उनके रहने का पक्का व्यवस्था किया जाय, उसके बाद हीं उन्हें यहां से हटाया जाय. उसके पहले इन लोगों ने स्थानीय विधायक पार्षद सभी जगह कई चक्कर लगाए लेकिन कोई इनसे मिलने तक नहीं आया. इनका पानी बन्द कर दिया गया गया. जब हमारी टीम दो दिन पहले यहां कवर करने आई थी तो दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष सोमनाथ भारती से पानी के व्यवस्था के लिए कहा था तो भारती ने तुरंत यहां पानी का टैंकर भिजवा दिया था. लेकिन आज 16 जून की सुबह सुबह NDRF अपने साथ बड़ी संख्या मे दिल्ली पुलिस पारा मिलिट्री फ़ोर्स बुलडोजर एवं कई ट्रक लेकर पहुंची औऱ इन लोगों को झुग्गियों से बाहर निकालकर इनके आशियाने पर बुलडोजर चलाना शुरू कर दिया.

आपको याद होगा दिल्ली विधानसभा इलेक्शन के समय आम आदमी पार्टी औऱ भारतीय जनता पार्टी दोनों ने जहां झुग्गी वहाँ मकान या झुग्गी के बदले मकान देने का वादा किया था. आम आदमी पार्टी ने तो दिल्ली मे कई झुग्गी वालों को सर्टिफिकेट भी बांटा था जिसमे मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का फोटो लगा था औऱ उसमे लिखा हुआ था कि जहां झुग्गी वहाँ मकान. लेकिन आज तक दिल्ली मे एक भी झुग्गी वालों को दिल्ली सरकार के तरफ से एक भी मकान नहीं दिया गया. वहीं केन्द्र सरकार ने अपने कुछ वादे पुरे किये औऱ कालका जी मे कुछ झुग्गी वालों को मकान दिये गए. लेकिन जितनी संख्या इन झुग्गी वालों की है उस हिसाब से ऊंट के मुँह मे जीरा का फोरन कहावत चरितार्थ होती नजर आ रही है औऱ दिल्ली मे लगातार बुलडोजर चलने का सिलसिला जारी है.

लगभग बीस साल से ज्यादा समय से यहां लोग रह रहे हैं. इनका आरोप है कि पहले ये लोग प्लास्टिक लगाकर रह रहे थे लेकिन कुछ दिनों बाद स्थानीय आम आदमी पार्टी की विधायक ने इनसे कहा कि धुप औऱ ठंढ मे प्लास्टिक मे क्यों रहते हो आपलोग पक्का मकान बनाकर रहो हम आपके साथ हुँ. इन लोगों ने फिर धीरे धीरे एक एक पैसा जुटाकर पक्का घर बनाना शुरू किया. बिजली के मीटर भी लग गए औऱ पिने का पानी टैंकर से रेग्युलर आने लगा. लोगों ने अपने बच्चों को यहीं स्कूल कॉलेज मे पढ़ाना शुरू कर दिया. लेकिन तभी अचानक NDRF ने इनके घरों पर 15 जून तक झुग्गी खाली करने का नोटिस चिपका दिया औऱ रोज माइक से एनाउंसमेंट कर झुग्गी खाली करने के लिए बोलने लगे. फिर ये लोग डरे सहमे विधायक के यहां गए पुरे सप्ताह तक ये लोग दौड़ते रहे लेकिन विधायक जी इन लोगों से मिलने तक नहीं आईं. इन लोगों ने नव निर्वाचित आप पार्षद के यहां गए लेकिन वो भी नहीं मिलिं. आख़िरकार इन लोगों ने हमारे कैमरे के सामने आँखों मे आंसू लिए हाथ जोड़कर सरकार से निवेदन किया. लेकिन सरकार का इनके आंसुओ से दिल नहीं पसीजा औऱ आज सुबह सुबह भारी पुलिस बल औऱ फ़ोर्स के साथ बुलडोजर लेकर इनके आशियाने को तोड़ने पहुँच गए औऱ खाली कराने लगे. लोगों का आरोप है कि पुलिस ने इनके साथ ज़्यादती भी कि. ये लोग रो रोकर हमारे कैमरे पर बता रहे हैं कि पुलिस ने इनके साथ क्या किया.

हमने जब इनसे पूछा कि अब ये कहां जायेंगे या सरकार ने इनसे कहां रहने के लिए बोला है. तो इन लोगों का कहना है कि सरकार ने इनसे रैन बसेरा मे जाने को बोला है, लेकिन हम वहाँ नहीं जायेंगे क्योंकि आय दिन सुनने मे आता है कि रैन बसेरा मे धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है साथ हीं रैन बसेरा मे कई तरह के लोग रहते हैं औऱ लोगों का आना जाना लगा रहता है हमारे छोटे छोटे बच्चे हैं जिनकी सुरक्षा वहाँ नहीं हो पायेगी..

हर पार्टी चुनाव के समय गऱीबों का हमदर्द बताती है औऱ वोट लेने के बाद भूल जाती है. अब जहां दिल्ली मे पारा 40 डिग्री के ऊपर है ऐसे मे ये बेघर हुए लोग कहां जायेंगे. सरकार इनको उजारने से पहले इनके रहने की व्यवस्था क्यों नहीं करती.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button