पश्चिमी दिल्ली

बैंकों के साथ करोड़ों की धोखाधड़ी,,

नटवरलाल आखिरकर गिरफ्तार, 3 साल से पुलिस को थी तलाश

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने प्रॉपर्टी में गड़बड़झाला करके कई बड़े बैंक को कई करोड़ का चूना लगाने वाले चिटर को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है। जिसकी पहचान अनुराग शर्मा के रूप में हुई है। इसे कोर्ट के द्वारा भगोड़ा भी घोषित किया जा चुका है। इसकी 3 साल पुराने दर्ज चीटिंग के मामले में दिल्ली पुलिस पिछले 3 साल से ढूंढ रही थी। लगातार यह अपना ठिकाना बदल कर पुलिस की नजर से बच रहा था।

डीसीपी एमआई हैदर ने बताया कि इसके बारे में नेहरू प्लेस ब्रांच के फेडरल बैंक के सीनियर मैनेजर ने शिकायत दर्ज कराई थी की एक कंपनी के डायरेक्टर अनुराग शर्मा और हितेश कुमार ने क्रेडिट फैसिलिटी/लोन का 2.5 करोड़ अमाउंट लिया था। बिजनेस के लिए और उसके लिए एग्रीमेंट भी हुआ था बैंक और उनके बीच में। लोन अमाउंट को सिक्योर करने के लिए दो प्रॉपर्टी को मोरगेज किया गया था।

जब लोन की ईएमआई बाउंस होने लगी और 2018 में NPA हो गया। तो बैंक ने मोरगेज की हुई प्रॉपर्टी पर एक्शन लेने की कारवाई शुरू की तो पता चला कि देना बैंक भी उसमें एक प्रॉपर्टी को लेकर लीगल कार्रवाई कर रही है। आगे की जब छानबीन हुई तो पता चला कि दिनकर बाजाज नाम के शख्स ने बताया कि जिस प्रॉपर्टी को बैंक मॉर्गेज की बात कर रही है वह प्रॉपर्टी उसने 2017 में ही खरीद ली थी। उसकी रजिस्ट्री भी है उसके पास।

बाद में यह भी पता चला कि वह प्रॉपर्टी इंडिया बुल कंपनी के पास भी मोरगेज पर है। इन सब बातों की छानबीन के लिए पुलिस टीम ने सारे डॉक्यूमेंट को सीज किया और बैंक का स्टेटमेंट लिया। उस जांच से पता चला कि लगभग 05 करोड़ आरोपी ने बैंकों से चिटिंग करके लिया है।

फिर पुलिस टीम इसके बारे में पता लगाती रही। आखिरकार डीसीपी एम आई हैदर की देखरेख में एसीपी एसएम शर्मा, इंस्पेक्टर संजय कुमार सिंह, सब इंस्पेक्टर सुरजीत पाल और सुशील कुमार की टीम ने इस आरोपी को गिरफ्तार करने में कामयाब हुई। यह लगातार पुलिस से बचने के लिए अपना ठिकाना बदल रहा था।

दिल्ली पुलिस ने पब्लिक से भी कहा है, की कोई भी लोन या क्रेडिट फैसिलिटी अगर आप बैंक से ले रहे हैं और प्रोपर्टी भी तो उसकी अच्छे से जांच कर लें और उसके लिए स्ट्रांग गारंटी दें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button