जुर्मदिल्ली

South East Delhi News: बोनट पर लटके सख्स को किलो मीटर तक घसीटा पीसीआर की टीम ने रात में पीछाकर गाड़ी को रोका

बचाई दिल्ली के रहने वाले एक सख्स की जान आधी रात आश्रम से सनलाइट की तरफ भाग रही थी कार

अनुभव गुप्ता, नई दिल्ली

दिल्ली पुलिस की पीसीआर यूनिट की टीम ने देर रात एक गाड़ी का पीछाकर उसके बोनट पर लटके हुए सख्स की जान बचाई। पीड़ित का आरोप ही, की उसे 2 से 3 किलोमीटर तक वह बोनट पर लटका हुआ रहा। पीसीआर की टीम ने समय पर पहुंचकर उसकी जान बचाई है। पीड़ित की पहचान चेतन के रूप में हुई है, वह गोविंदपुरी इलाके का रहने वाला है और गाड़ी चलाता है।

डीसीपी पीसीआर आनंद मिश्रा ने बताया कि देर रात 12 बजे के बाद की वारदात है। जब साउथ ईस्ट जोन के पीसीआर की गाड़ी पर तैनात हेड कांस्टेबल नटवर सिंह और कांस्टेबल मनीष की टीम ने इस गाड़ी को चेज करके पकड़ने में कामयाबी पाई है। जिस गाड़ी के बोनट पर शख्स लटका हुआ था वह गाड़ी मथुरा रोड पर आश्रम की तरफ से इंडिया गेट की तरफ स्पीड में भाग रही थी। जो आदमी बोनट पर लटका हुआ था वह जोर-जोर से चिल्ला रहा था कि मुझे बचाओ,,मुझे बचाओ। पीसीआर की टीम ने पीछा करके इस गाड़ी को सनलाइट कॉलोनी थाना इलाके के नीला गुंबद पर रोक लिया और बोनट पर लटके हुए सख्स को सकुशल नीचे उतारा। आरोपी को और गाड़ी को स्थानीय पुलिस के हवाले कर दिया गया।

पीड़ित चेतन का अरोप है, की आश्रम के पास एक कार ने उसकी कार को दो से तीन बार हिट किया। इससे पहले की टक्कर मारने वाला कार का ड्राइवर, अपनी गाड़ी को भगा पाता, चेतन ने आरोपी की गाड़ी को रोकने की कोशिश की। उसमे जब वह सफल नहीं हुआ तो चेतन आरोपी की कार के बोनट पर लटक गया। बावजूद इसके आरोपी ने अपनी कार को नहीं रोकी और सरपट सड़क पर गाड़ी भगाने लगा। इस बीच वह लगातार मदद के लिए चिल्ला भी रहा था और आरोपी को गाड़ी रोकने के लिए लगातार बोल भी रहा था, लेकिन उसने गाड़ी नहीं रोकी।

इसी बीच पेट्रोलिंग कर रही पीसीआर की टीम की नजर उस पर पड़ी और उन्होंने पीछा करके ओवरटेक करके गाड़ी को रुकवाया। जिस कार से हादसे को अंजाम देने की कोशिश की गई थी उस पर सांसद का स्टीकर लगा हुआ है। जो बिहार के एक सांसद का बताया जा रहा है। हालांकि उस वक्त वो गाड़ी में नहीं थे, ड्राइवर अकेला गाड़ी चला रहा था। पुलिस ने कार को कब्जे में लेकर आरोपी को भी पुलिस के हवाले कर दिया है।

वही आरोपी कार ड्राइवर का कहना था, कि उसने चेतन की गाड़ी में कोई टक्कर नहीं मारी थी। वह बिना वजह जानबूझकर मेरी कार के बोनट पर चढ़ गया। मैंने उसे नीचे उतरने को कहा, लेकिन उसने नहीं सुना। मैंने फिर भी लगातार उससे कहता रहा की आप यह क्या कर रहे हो ?

लेकिन आरोपी के इस बयान पर पीड़ित ड्राइवर चेतन ने पुलिस को बताया कि वह ड्राइवर है और एक सवारी को रात में छोड़कर जैसे ही आश्रम के पास पहुंचा। तो उसी दौरान एक दूसरी गाड़ी ने उसकी कार को दो तीन बार हिट किया। जब चेतन ने उस कार को रोकने की कोशिश की तो कार सवार ने गाड़ी नहीं रोकी, जिसके बाद वह मजबूरी में उसके बोनट पर लटक करके उसकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की। लेकिन उसने का रोकने की बजाय आश्रम से गाड़ी को भगा दिया। रास्ते में पीसीआर ने पीछा करके रोका, आरोप है, की गाड़ी भगा रहा ड्राइवर नशे में था। हालांकि इसकी पुष्टि अभी नहीं हुई है।

गौरतलब ही, की नॉर्थ वेस्ट दिल्ली के कंझावाला इलाके में इसी साल अंजली हत्याकांड के बाद जब पुलिस की काफी फजीहत हुई, तो पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा ने फिर से दिल्ली पुलिस की पीसीआर यूनिट को लोकल पुलिस से अलग करते हुए बड़ा फेरबदल किया और इंडिपेंडेंट रुप से पहले की तरह पीसीआर की टीम काम करने लगी।

इस मामले में सनलाइट कॉलोनी थाना की पुलिस को आरोपी कार ड्राइवर से पूछताछ करने के बाद क्या क्या पता चला। इसके बारे में समाचार लिखे जाने तक साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट के डीसीपी राजेश देव के द्वारा कोई आधिकारिक जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई थी। आरोपी ड्राइवर और कार के खिलाफ किन धाराओं में एफ आई आर दर्ज किया गया है, इसके बारे में भी जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button