जुर्मदिल्ली

लिव इन पार्टनर की हत्या कर बाइक से लाश ठिकाने लगाने वाला अरेस्ट

अनुभव गुप्ता, नई दिल्ली
क्राइम ब्रांच की टीम ने लिव इन पार्टनर की हत्या कर उसकी लाश को बाइक से ठिकाने लगाने के बाद से फरार चल रहे वांटेड को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी की पहचान विनीत पंवार के रूप में हुई है। आरोपी हत्या के एक दूसरे मामले में उम्र कैद की सजा काट रहा था। परोल पर बाहर आने के बाद उसने बहन के साथ मिलकर लिव इन पार्टनर की हत्या को अंजाम दिया था।

हत्या के उस सनसनीखेज में पुलिस वारदात में शामिल विनीत पंवार की बहन पारुल और लाश को ठिकाने लगाने में मदद करने वाले इरफान को स्थानीय पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस के अनुसार 12 अप्रैल को करावल नगर में एक महिला घायल अवस्था में पुलिस को मिली थी। अस्पताल ले जाने पर उसे डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था। इस मामले में हत्या का केस दर्ज कर लोकल पुलिस न दो आरोपियों को दबोच लिया था। लेकिन विनीत फरार चल रहा था।

क्राइम ब्रांच की ईस्टर्न रेंज-2 की टीम को उसकी धरपकड़ में लगाया गया था। लोकल इंटेलिजेंस की मदद से मिली गुप्त सूचना के आधार पर वांटेड को यमुनापार के लोनी गोल चक्कर के पास से क्राइम ब्रांच ने दबोच लिया। पूछताछ में उसने खुलासा किया कि 2017 में उसकी जान पहचान माही उर्फ रोहिना नाज़ से हुई थी। कुछ समय बाद ही दोनों साथ रहने लगे। इस बीच 2019 में विनीत बागपत, यूपी में हुई हत्या के मामले में जेल चला गया।

माही उर्फ रोहिनी नाज़ उसकी बहन पारुल के साथ रहने लगी। इसी बीच हत्या के मामले में विनीत को उम्र कैद की सजा हो गई। नवंबर 2022 में वह इलाहाबाद हाई कोर्ट से परोल लेकर बाहर आया। मार्च 2023 में पारुल के पति विधिश की जलकर मृत्यु हो गई। पति विधीश चौधरी का कोई सगा भाई-बहन नहीं था, माता-पिता की पहले ही मौत हो चुकी थी। इसलिए कानूनी तौर पर पारुल विधीश की सम्पति की उत्तराधिकारी बन गई।

इधर नाज़ जेल से पेरोल पर बाहर आये विनीत पर शादी करने के लिए दवाब डाल रही थी। साथ ही उसकी बहन पारुल की संपत्ति में हिस्सा भी मांग रही थी। इसी कारण फिर गुस्से में आकर दो भाई-बहन विनीत और पारुल ने मिलकर माही उर्फ रोहिनी नाज़ की हत्या कर दी। उसके बाद विनीत फरार हो गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button