जुर्मदिल्लीद्वारका

BJP नेता की सनसनीखेज हत्या का खुलासा, नन्दू गैंग ने करवाई थी हत्या, शूटर सहित 4 गिरफ्तार

2 नबलिक भी लोई गए हिरासत में,ऑपरेशन सेल ने पकड़ा

 

अनुभव गुप्ता, नई दिल्ली

द्वारका जिला के मटियाला रोड पर 14 अप्रैल की रात बीजेपी के स्थानीय नेता और काउंसलर का चुनाव लड़ चुके सुरेंद्र मटियाला की उन्ही के ऑफिस के अंदर गोली मारकर हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा 6 दिन बाद कर लिया है। ऑपरेशन सेल की कई टीमें 100 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज, लोकल इंटेलिजेंस, परिवार वालों और उनके नजदीकी जानकारों से पूछताछ के बाद इस मामले का खुलासा करने में कामयाब रही। इनकी हत्या कपिल सांगवान उर्फ नन्दू गैंग ने करवाई थी। बताया गया है की इस मामले में 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा दो नबलिक को भी हिरासत में लिया गया है।

सुरेंद्र मटियाला की हत्या की गुत्थी सुलझाने में पुलिस को शुरुआती जांच में सीसीटीवी फुटेज काफी मददगार साबित हुई। साथ ही मौके से किये गए छानबीन, उठाए गए सबूत, फॉरेंसिक टीम के द्वारा इकट्ठा इकट्ठा किये गए जरूरी एविडेंस के अलावा मृतक के मोबाइल की इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस की भी मदद ली गई। छानबीन में घूम फिरकर मामला प्रॉपर्टी विवाद को लेकर ही आकर रुक रहा था। क्योंकि ना तो मटियाला कोई बड़े राजनीतिक पद पर थे, जिससे की उस एंगल से ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा है।

पता चला था की प्रॉपर्टी को लेकर कई विवाद चल रहा रहा था। इसी बीच एक मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा। जिसमे दावा किया जाने लगा की सुरेंद्र मटियाला की हत्या कपिल सांगवान उर्फ नन्दू गैंग ने करवाई है। आरोप लगाया गया की मटियाला का सम्पर्क दूसरे से था और इसको लेकर मना भी किया गया था। लेकिन जब वह नही माने तो उनकी हत्या करनी पड़ी। इतना ही नही इंस्टाग्राम पर वायरल मैसेज में यह भी कहा गया था की जो भी ऐसा करेगा, उसके साथ अंजाम ऐसा ही होगा।

सुरेंद्र मटियाला की हत्या के लिए शूटर हायर किये गए थे, ऐसा पता चला है। वारदात को अंजाम देने के लिए चोरी की बॉइक का इंतजाम किया गया था। फंड का इंतजाम किसी और ने किया था। रैकी किसी और ने करवाई थी। फिर पूरी प्लानिंग कम्प्लीट होने के बाद 14 अप्रैल की रात उस समय सुरेंद्र मटियाला की गोली मारकर हत्या की गई जब वह अपने 2-3 जानकारों के साथ मटियाला रोड स्थित अपने ऑफ़िस में बैठकर टीवी देख रहे थे।

एसीपी ऑपरेशन रामअवतार की देखरेख में स्पेशल स्टाफ के इंचार्ज इंस्पेक्टर नवीन कुमार, एएटीएस के इंचार्ज इंस्पेक्टर कमलेश कुमार, एंटी नारकोटिक्स के इंचार्ज सुभाष चंद और जेल बेल के इंचार्ज रघुबीर सिंह की टीम ने इस गुत्थी को सुलझाने के लिए लगातार 6 दिनों तक कड़ी मशक्कत की और एक एक करके 6 को दबोचने में कामयाब रहे।

सुरेंद्र मटियाला नजफगढ़ जिला किसान मोर्चा के प्रभारी थे। पूर्व में काउंसलर का चुनाव भी बीजेपी की तरफ से लड़ चुके थे। उनका ऑफिस मटियाला रोड पर काफी अरसे से चल रहा है। यहां पर पश्चिमी जिला के सांसद प्रवेश वर्मा भी आते रहते हैं और यहां पर बैठकर लोगों से उनकी समस्या भी सुनते रहते हैं। जिसकी वजह से यहां पर लोगों का आना जाना भी काफी रहता था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button