दिल्ली

CRPF ने MCD और चेतक फाउंडेशन से मिल चलाया पौधारोपण अभियान, 5000 का लक्ष्य, 3000 का हुआ प्लांटेशन

CRPF ने MCD और चेतक फाउंडेशन से मिल चलाया पौधारोपण अभियान, 5000 का लक्ष्य, 3000 का हुआ प्लांटेशन

देश की सुरक्षा व्यवस्था में अग्रणी फोर्स “केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल” भी पर्यावरण को लेकर बढ़-चढ़कर काम कर रहा है। इसी कड़ी में पश्चिम विहार पार्क में बड़े पैमाने पर औषधिय पौधों और जड़ी-बूटियों ( Medicinal and herbal plants ) का रोपण हुआ।

सीआरपीएफ के सिग्नल बटालियन के कमांडेंट विनय तिवारी ने बताया की
हम सिर्फ देश में शांति बनाये रखने का काम नहीं करते हैं, बल्कि समाज के उत्थान का काम भी करते हैं। उन्होंने पौधारोपण आभियान में स्पोर्ट के लिए चेतक फाउंडेशन का आभार व्यक्त किया। कहा की 5000 पौधा लगाने का लक्ष्य रखा गया ही, जिसमें से 3000 को पूरा कर लिया गया है। इसी अभियान में उन्होंने टीम के साथ और अन्य प्रबुद्ध जीवियों के साथ मिलकर पश्चिम विहार स्थित केएल शर्मा पार्क में बड़े पैमाने पर औषधीय पौधों और जड़ी बूटियों वाले हर्बल प्लांट के पौधे का रोपण किया।

बड़े पैमाने पर पौधारोपण के लिए सीआरपीएफ ने एमसीडी और चेतक फाउंडेशन के साथ मिलकर इस अभियान की शुरुआत की। वार्ड नंबर 58 की पार्षद शिखा गुप्ता भारद्वाज और फाउंडेशन की पैटर्न कृष्णा शर्मा सहित काफी गणमान्य लोगों ने शिरकत की।

CRPF के कमांडेंट विनय तिवारी ने कहा कई तरह के पौधे लगाने और लगवाने में सबका सहयोग बहुत जरूरी है। वहीं पार्षद शिखा गुप्ता ने कहा कि पर्यावरण का सम्मान करना हमारा कर्तव्य है, युवाओ को बढ़ चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए।

चेतक फाउंडेशन के डायरेक्टर मुकेश हरितश ने कहा यह हमारा फर्ज है, की हमें प्रकृति ने जो दिया उसे संरक्षित रखें और इस दिशा में पौधे लगाना एक अच्छा कदम है। हमारा प्रयास रहेगा पर्यावरण की रक्षा करना, यह हम सभी का फर्ज है। इस दिशा में पौधे लगाना और वह भी औषधिय एक अच्छा कदम है। इससे हमारा पर्यावरण सुरक्षित रहेगा। पर्यावरण की रक्षा करना हम सभी का फर्ज है। उन्होंने बताया कि चेतक फाउंडेशन की स्थापना चेतक समूह के प्रवर्तक जय करण शर्मा की भावनाओं के अनुरूप है, जो प्रकृति के संरक्षण के लिए काम करते रहते थे। खास तरह के पौधे लगाने में सहृयोग के लिए एमसीडी और सीआरपीएफ को धन्यवाद दिया।

पश्चिम विहार स्थित पार्क में लगाए गए पौधों की सुरक्षा के लिए ट्री गार्ड भी लगाए गए हैं, जिससे पौधे सुरक्षित रहें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button