दिल्ली

दिल्ली के सभी जिले रेड जोन में, संक्रमण दर 12 से 25%, जांच के पैमाने में भी है अंतर

राजधानी के सभी जिलों की संक्रमण दर हफ्ते भर से लगातार दस फीसदी से ऊपर बनी हुई है। नतीजतन पांचवीं लहर में सभी जिले रेड जोन में तब्दील हो गए हैं। इनमें से किसी जिले में 10 में से एक तो किसी में चार-चार नमूने तक पॉजिटिव मिल रहे हैं।

राजधानी के सभी जिलों की संक्रमण दर हफ्ते भर से लगातार दस फीसदी से ऊपर बनी हुई है। नतीजतन पांचवीं लहर में सभी जिले रेड जोन में तब्दील हो गए हैं। इनमें से किसी जिले में 10 में से एक तो किसी में चार-चार नमूने तक पॉजिटिव मिल रहे हैं। सबसे ज्यादा संक्रमण दर उत्तर पश्चिम और सबसे कम दक्षिण पश्चिम जिले की है। दोनों जिलों में इससे जुड़ा आंकड़ा 25.44 व 12.12 फीसदी है।

दरअसल, किसी जिले या स्थान को रेड जोन में तब डाला जाता है, जब वहां की साप्ताहिक संक्रमण दर लगातार 10 फीसदी या उससे ऊपर रहती है। बीते एक सप्ताह में दिल्ली के सभी जिलों में संक्रमण दस फीसदी से ऊपर की दर से बढ़ रहा है। तीन से नौ जनवरी के बीच संक्रमण में तेजी से इजाफा हुआ है। इसके बाद के आंकड़े अभी स्थिर बने हुए हैं।

स्वास्थ्य विभाग की जिलावार संक्रमण रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि जहां रोजाना 90 फीसदी से भी अधिक नमूनों की जांच आरटी पीसीआर से हो रही है, वहां संक्रमण दर बाकी जिलों की तुलना में कम है। जबकि जहां एंटीजन जांच और आरटी पीसीआर के बीच अंतर कम है, उन जगहों पर करीब दोगुने से अधिक नमूने संक्रमित मिल रहे हैं।

इस ट्रेंड पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार ने कोरोना जांच के लिए नियम बनाए हैं। इसके अनुसार हर दिन 60 फीसदी नमूनों की जांच आरटी-पीसीआर और 40 फीसदी जांच एंटीजन किट्स के जरिये की जा सकती है। दिल्ली में 70 फीसदी से भी अधिक जांच आरटी-पीसीआर के जरिये हो रही है। कुछ जिलों में इस रिपोर्ट के माध्यम से एंटीजन जांच को लेकर तथ्य सामने आए हैं।

ये भी पढ़े : मास्क के चक्कर में महंगा पड़ा थप्पड़ मारना, हाथ जोड़कर मांगनी पड़ी माफी

nn24news

एन एन न्यूज़ (न्यूज़ नेटवर्क इंडिया ग्रुप) का एक हिस्सा है, जो एक डिजिटल प्लेटफार्म है और यह बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड अन्य राज्य सहित राजनीति, मनोरंजन, खेल, करंट अफेयर्स और ब्रेकिंग खबरों की हर जानकारी सबसे तेज जनता तक पहुंचाने का प्रयास करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button