दिल्लीद्वारका

द्वारका बाजारों में पार्किंग शुल्क लिया जाए वापस, पार्किंग शुल्क वसूलना गलत

पार्किंग शुल्क वसूलना एसडीएमसी द्वारा गलत है, किसी भी प्रकार की पार्किंग को लेकर 20 रूपये की पार्किंग चार्ज की वसूली की जा रही है, यदि कोई1 रुपये की दिन में 10 बार टाँफी या ब्रेड भी खरीदने आता है तो उसे हर बार अलग-अलग करके 20-20 रुपए का पार्किंग चार्ज देना पड़ेगा जो एकदम गलत है।

द्वारका मार्केट क्षेत्र में पार्किंग शुल्क वसूलना एसडीएमसी द्वारा गलत है, किसी भी प्रकार की पार्किंग को लेकर 20 रूपये की पार्किंग चार्ज की वसूली की जा रही है, यदि कोई1 रुपये की दिन में 10 बार टाँफी या ब्रेड भी खरीदने आता है तो उसे हर बार अलग-अलग करके 20-20 रुपए का पार्किंग चार्ज देना पड़ेगा जो एकदम गलत है।

यह बात सबको पता है कि दिल्ली में सार्वजनिक सड़कों/स्थानों पर कारों को पार्क करने के मद्देनजर दिल्ली सरकार वाहन के पंजीकरण के समय वाहन मालिकों से एकमुश्त पार्किंग शुल्क वसूल करना बहुत पहले शुरू कर दिया था। दिल्ली एकमात्र ऐसा राज्य है जहां वाहन के पंजीकरण के समय एकमुश्त पार्किंग शुल्क वसूल किया जाता है। यह अनुचित भी था

“नगरपालिका अधिकारियों, राज्य सरकारों और यातायात पुलिस को एक मूल्य निर्धारण तंत्र पर काम करना होगा”।
इस बात की जानकारी नहीं है कि पार्किंग शुल्क से वसूल की गई धनराशि का उपयोग सड़क परिवहन में सुधार या सार्वजनिक परिवहन में सुधार के लिए किया जाता है। इसके बाजार स्थानों सहित द्वारका क्षेत्र में पर्याप्त खुले स्थान हैं। दुकानदारों और पैदल चलने वालों को प्रभावित किए बिना निजी वाहनों को आसानी से प्रबंधित और पार्क किया जा सकता है, द्वारका में पार्किंग की कीमत कनॉट प्लेस या अन्य व्यस्त क्षेत्र की दरों के बराबर रखी गई है, यानी 20 रुपये प्रति घंटा, यह किसी भी प्रकार से सही नहीं है।

यह समय है कि सरकार, एसडीएमसी दोनों को एक सर्वेक्षण करना चाहिए और द्वारका मार्केट में पार्किंग शुल्क को बंद कर देना चाहिए क्योंकि इस क्षेत्र को पेड पार्किंग ज़ोन में अभी से लाना बहुत जल्दी है, दूसरा लगाया जा रहा पार्किंग शुल्क भी अधिक है।

यह क्षेत्र पूरी तरह से आवासीय सहकारी समूह हाउसिंग सोसायटियों के कब्जे में है, खरीदार सोसायटियों के निवासी हैं, वे अपनी दैनिक जरूरतों के लिए खरीदारी कर रहे हैं, किसी व्यावसायिक गतिविधि के लिए नहीं। इसलिए “द्वारका क्षेत्र में पार्किंग शुल्क तर्कहीन और अनुचित हैं, पार्किंग शुल्क पर रोक लगना चाहिए।

ये भी पढ़े: मिट्टी के भाव थोक में बिक रहा है मूली, किसानों को फिर हुआ नुकसान

nn24news

एन एन न्यूज़ (न्यूज़ नेटवर्क इंडिया ग्रुप) का एक हिस्सा है, जो एक डिजिटल प्लेटफार्म है और यह बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड अन्य राज्य सहित राजनीति, मनोरंजन, खेल, करंट अफेयर्स और ब्रेकिंग खबरों की हर जानकारी सबसे तेज जनता तक पहुंचाने का प्रयास करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button