लाइफस्टाइल

रसोइयों में सालों से इस्तेमाल होने वाले डालडा की कहानी; कैसे पड़ा ये नाम

डालडा के टिन के डिब्बे की जगह प्लास्टिक के डिब्बे और फिर पैकेट्स ने ली। फिर ऐसा वक्त आया कि रिफाइंड ऑयल (Refind Oil) ने धीरे-धीरे वनस्पति घी (Vanaspati Ghee) को रिप्लेस करना शुरू कर दिया।

डालडा…वह नाम जो कभी भारत के अधिकांश घरों में सुनने को मिल जाता था। वीकएंड का कुछ स्पेशल खानापीना हो या फिर त्योहारों की डिश बनाना…डालडा (Dalda) का इस्तेमाल होता ही होता था। 25-30 वर्षों तक डालडा ने बाजार पर एकछत्र राज किया। इसके बाद रसोई में डालडा के टिन के डिब्बे की जगह प्लास्टिक के डिब्बे और फिर पैकेट्स ने ली। फिर ऐसा वक्त आया कि रिफाइंड ऑयल (Refind Oil) ने धीरे-धीरे वनस्पति घी (Vanaspati Ghee) को रिप्लेस करना शुरू कर दिया।

file image

डालडा का सफर तो दिलचस्प है ही, साथ ही दिलचस्प है, इसके नाम की कहानी…कहां से आया यह नाम डालडा, क्या है इसका मतलब और कैसे शुरू हुआ लगभग 85 साल पुराने डालडा का सफर, आइए जानते हैं।

डालडा की शुरुआत अंग्रेजों के टाइम (British Era) से हुई थी। कासिम दादा (Kassim Dada) नाम के व्यक्ति 1930 के दशक से पहले एक डच कंपनी से देसी घी या क्लैरिफाइड मक्खन के सस्ते विकल्प के रूप में वनस्पति घी का आयात करते थे। उन औपनिवेशिक दिनों के ब्रिटिश भारत में, देसी घी को एक महंगा उत्पाद माना जाता था। आम जनता के लिए इसे खरीदना आसान नहीं था। इसलिए वनस्पति घी की जरूरत महसूस की गई, जो देसी घी का विकल्प हो और उससे सस्ता हो।

file image

 

1930 के दशक की शुरुआत तक भारत में उपलब्ध हाइड्रोजनेटेड वनस्पति घी, कासिम दादा और हिंदुस्तान वनस्पति मैन्युफैक्चरिंग कंपनी (Hindustan Vanaspati Manufacturing Co.) द्वारा देश में आयात किया जाता था। हिंदुस्तान वनस्पति को अब हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL) और यूनिलीवर पाकिस्तान कहा जाता है। कासिम दादा अपना आयातित उत्पाद ‘दादा वनस्पति’ के नाम से बेचते थे। यूनिलीवर के लीवर ब्रदर्स जानते थे कि देसी घी महंगा होने के चलते इसके विकल्प के लिए एक मुनाफेवाला बाजार मौजूद है। इसलिए हिंदुस्तान वनस्पति स्थानीय स्तर पर हाइड्रोजनेटेड वनस्पति तेल का निर्माण शुरू करना चाहती थी।

घरेलू वनस्पति घी बाजार में पैठ बनाने के अवसर को भांपते हुए लीवर ब्रदर्स ने अपने हाइड्रोजनेटेड वनस्पति घी के लिए कासिम दादा का सहयोग मांगा और भारत में ‘दादा’ बनाने के अधिकार खरीद लिए। लेकिन इसकी बिक्री के लिए एक पूर्व शर्त थी और वह यह कि दादा नाम बरकरार रखना था। लेकिन अगर यह नाम बरकरार रखा जाता तो यूनिलीवर कहां झलकती। तो इसके लिए समाधान निकाला गया कि नाम के बीच में ‘L’ डाला जाए और इसे दादा की बजाया डालडा नाम दिया जाए। कासिम दादा इस पर मान गए और इस तरह डालडा नाम अस्तित्व में आया। अगर इंग्लैंड के लीवर ब्रदर्स ने नाम में ‘एल’ अक्षर डालने पर जोर नहीं दिया होता, तो शायद भारत का सबसे लोकप्रिय वनस्पति घी ‘दादा’ कहलाता।

nn24news

एन एन न्यूज़ (न्यूज़ नेटवर्क इंडिया ग्रुप) का एक हिस्सा है, जो एक डिजिटल प्लेटफार्म है और यह बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड अन्य राज्य सहित राजनीति, मनोरंजन, खेल, करंट अफेयर्स और ब्रेकिंग खबरों की हर जानकारी सबसे तेज जनता तक पहुंचाने का प्रयास करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button